Skip to main content

Shree Pret raj Sarkar Ki Aarti

shri pretraj sarkar aarti
Pretraj Sarkar

श्री प्रेतराज सरकार की आरती -

प्रेतराज सरकार का मंदिर मेहंदीपुर राजस्थान में स्थित है 
जय प्रेतराज कृपाल मेरी, अरज अब सुन लीजिये |
मैं  शरण तुम्हारी आ गया हूँ , नाथ दर्शन दीजिये ||

मैं  करूँ विनती आपसे अब तुम दयामय चित्त धरो |
चरणों का ले लिया आसरा, प्रभु वेग से दुःख मेरा हरो ||

सिर पर मुकुट कर में धनुष, गल बीच मोतियन माल है |
 जो करें दर्शन प्रेम से, सब कटत भाव के जाल है ||

जब पहन दस्तर  खडग बाई बगल में ढाल है |
ऐसा भयंकर रूप जिसको देख डरपत काल है ||

अति प्रबल सेना विकत योद्धा, संग में विकराल है|
सब भूत प्रेत पिशाच बाँधे, कैद करते  हाल है ||

तव रूप धरते वीर का, करते तैयारी चलन की |
संग में लडाके जवान, जिनकी थाह नहीं बलन की ||

तुम सब तरह सामर्थ्य हो, सकल सुख के धाम हो |
दुष्टों के मारनहार हो,  भक्तों के पूरण काम हो ||

मैं हूँ मति का मंद, मेरी बुद्धि  को निर्मल करो |
अज्ञान का अँधेरा उर में ज्ञान का दीपक धरो ||

सब मनोरथ सिद्ध करते, जो कोई सेवा करे |
तंदुल, बूरा , घ्रत,  मेवा, भेंट ले आगे धरे ||

सुयश सुनके आपका, दुखिया तो आये दूर से |
सब स्त्री अरु पुरुष आकर पड़े चरण हुजूर के ||

लीला है अदभुत आपकी महिमा तो अपरंपार है |
मैं ध्यान जिस दिन धरत हूँ, रच देता मंगलाचार है ||

सेवक गणेशपुरी महंत जी की, लाज तुम्हारे हाथ है |
करना खता सब माफ़ उनकी, देना हरदम साथ है||

दरबार में आयो अभी, सरकार में हाजिर खड़ा |
इंसाफ मेरा अब करो, चरणों में आकर गिर पड़ा ||

अर्जी बमूजिब दे चुका, अब गौर इस पर कीजिये |
तत्काल इस पर हुक्म लिख दो, फैसला कर दीजिये ||

महाराज की यह स्तुति, कोई नियम रूप से गाया करे |
सब सिद्ध कारज होये, उनके रोग पीड़ा सब हरे ||

भक्त सेवक आपके, उनको नहीं विसराइये |
जय जय मनायें  आपकी, बेड़े को पार लगाइये ||

Pretraj Sarkar ki aarti-

jay pretraj kripaal meri araj ab sun lijiye
mein sharan tumhari aa gaya hun naath darshan dijiye.

mein karun vinti aapse ab tum dayamay chitt dharo
charno ka le liya aasra prabhu veg se mera dukh haro.

sir par mukut kar me dhanush gal beech motiyan maal hai 

jo karen darshan prem se sab katat bhav ke jaal hai.

jab pehan dastar le khadag by bagal me dhaal hai
.esa bhayankar roop jisko dekh darpat kaal hai.

ati prabal sena vikat yodha sang me vikraal hai
sab bhoot pretpisaach baandhe kaid karte haal hai.

tab roop dharte veer ka karte taiyaari chalan ki 

sang me ladake javan jinki thaah nhi balan ki.

tum sab tarah saamarthya ho prabhu sakal sukh ke dhaam ho
duston ke maaranhaar ho bhakton ke puran kaam ho.

mein hu mati ka mand meri buddhi ko nirmal karo

agyaan ka andhera ur mein gyaan ka deepak dharo.

sab manorath siddh karte jo koi seva kare

tandul boora ghrt meva bhent le aage dhare.

suyash sun ke aapka dukhiya to aaye dur se

sab stri or purush aakr pade charan hujur ke.

leela hai adbhut aapki mahima to aprampaar hai

me dhyaan jis din dharat hurach deta manglachar hai.

sevak ganeshpuri mahant ji ki laaj tumhare haanth hai

karna khata sab maaf unki dena hardam saath hai.

darbaar me aayo abhi sarkar me haajir khada

insaaf mera ab karo charon me aakar ir pada.

arji bamujib de chuka ab gor is par keejiye

tatkaal is pr hukm likh do faisla kar deejiya.

maharaj ki yah stuti koi niyam se gaaya kare

sab siddha kaaraj hoye unke rog peeda sab hare.

 bhakt sevak aapke unko nahi visraaiye

jai jai manayen aapki bede ko paar lagaiye.